Kalam-Heralding Hindi Literature

Heralding Hindi Literature

हिंदी साहित्य के वैभव का उद्घोषक

Kalam-Nationwide reach

Nationwide reach

राष्ट्रव्यापी पहुँच

Kalam-Niche audience

Niche audience

उत्कृष्ट श्रोता

Kalam-First of its kind

First of its kind

विशिष्ट कार्यक्रम

Agra

Agra

Ahmedabad

Ahmedabad

Ajmer

Ajmer

Amritsar

Amritsar

Bengaluru

Bengaluru

Bhubaneshwar

Bhubaneshwar

Hyderabad

Hyderabad

Jaipur

Jaipur

Jodhpur

Jodhpur

Kolkata

Kolkata

London

London


‘कलम’ प्रभा खेतान फाउंडेशन के ट्रस्टी एवं विख्यात सामाजिक तथा सांस्कृतिक कार्यकर्त्ता संदीप भूतोड़िया जी के उर्वर मस्तिष्क की उपज है। उन्होंने मुख्य रूप से हिंदी और क्षेत्रीय भाषा साहित्य के प्रचार प्रसार हेतु भारत में ‘कलम’ की शुरुआत की। ‘कलम’ लेखकों और कवियों का अंतरंग संवादात्मक मंच है जिसमें प्रमुख रूप से हिंदी साहित्य की धरोहर को संजोया जाता है। कलम का उद्देश्य 25 से 30 विशिष्ठ व्यक्तियों को आमंत्रित कर, उन्हें ऐसा साहित्यिक परिवेश देना है जहाँ वे किसी अतिथि लेखक/कवि के साथ रचना, रचनाकार एवं रचना प्रक्रिया से संबंधित अंतरंग चर्चा कर सकें I इन आयोजनों में पुस्तकों के लोकार्पण या किसी भी तरह के क्रय-विक्रय की गतिविधि नहीं होती है I हाँ, अतिथियों को लेखक द्वारा हस्ताक्षरित पुस्तकों की प्रतियाँ मानार्थ भेंट अवश्य की जाती हैं I मातृभाषा साहित्य के प्रति प्रेम एवं सम्मान तथा अपनी जड़ों को समृद्ध बनाए रखने का एक उद्यम है ‘कलम’। ‘कलम’ भारतीय साहित्य की आत्मा को संजोकर रखने का पक्षधर है एवं इस महान विचार को कार्यरूप देने हेतु कटिबद्ध है।

Bilaspur

Bilaspur


Chandigarh

Chandigarh


Delhi

Delhi


Faridabad

Faridabad


Gurugram

Gurugram

Lucknow

Lucknow

Mumbai

Mumbai

Patna

Patna

Pune

Pune

Raipur

Raipur

Ranchi

Ranchi

 
Udaipur

Udaipur

Agra

Agra

Ahmedabad

Ahmedabad

Ajmer

Ajmer

Amritsar

Amritsar

Bengaluru

Bengaluru

Bhubaneshwar

Bhubaneshwar

Hyderabad

Hyderabad

Jaipur

Jaipur

Jodhpur

Jodhpur

Kolkata

Kolkata

London

London


‘कलम’ प्रभा खेतान फाउंडेशन के ट्रस्टी एवं विख्यात सामाजिक तथा सांस्कृतिक कार्यकर्त्ता संदीप भूतोड़िया जी के उर्वर मस्तिष्क की उपज है। उन्होंने मुख्य रूप से हिंदी और क्षेत्रीय भाषा साहित्य के प्रचार प्रसार हेतु भारत में ‘कलम’ की शुरुआत की। ‘कलम’ लेखकों और कवियों का अंतरंग संवादात्मक मंच है जिसमें प्रमुख रूप से हिंदी साहित्य की धरोहर को संजोया जाता है। कलम का उद्देश्य 25 से 30 विशिष्ठ व्यक्तियों को आमंत्रित कर, उन्हें ऐसा साहित्यिक परिवेश देना है जहाँ वे किसी अतिथि लेखक/कवि के साथ रचना, रचनाकार एवं रचना प्रक्रिया से संबंधित अंतरंग चर्चा कर सकें I इन आयोजनों में पुस्तकों के लोकार्पण या किसी भी तरह के क्रय-विक्रय की गतिविधि नहीं होती है I हाँ, अतिथियों को लेखक द्वारा हस्ताक्षरित पुस्तकों की प्रतियाँ मानार्थ भेंट अवश्य की जाती हैं I मातृभाषा साहित्य के प्रति प्रेम एवं सम्मान तथा अपनी जड़ों को समृद्ध बनाए रखने का एक उद्यम है ‘कलम’। ‘कलम’ भारतीय साहित्य की आत्मा को संजोकर रखने का पक्षधर है एवं इस महान विचार को कार्यरूप देने हेतु कटिबद्ध है।

Bilaspur

Bilaspur


Chandigarh

Chandigarh


Delhi

Delhi


Faridabad

Faridabad


Gurugram

Gurugram

Lucknow

Lucknow

Mumbai

Mumbai

Patna

Patna

Pune

Pune

Raipur

Raipur

Ranchi

Ranchi

 
Udaipur

Udaipur

Sessions in June



Pratyaksha

Manoj Muntashir

Farhat Shahzad

Irshad Kamil


Arun Kamal

Yatindra Mishra