मार्गरेट अल्वा

सांसद, राजनीतिज्ञ और विधि विशेषज्ञ मार्गरेट अल्वा का जन्म 14 अप्रैल,1942 को मैंगलूर में हुआ। आपने माउंट कार्मेल कॉलेज और राजकीय लॉ कॉलेज में शिक्षा-दीक्षा हासिल की। आपने युवावस्था में ही एक एडवोकेट के रूप में विशिष्ट पहचान बना ली। वकालत के साथ ही आपने ललित कला के क्षेत्र में तैल चित्र निर्माण व गृह-सज्जा के क्षेत्र में भी हस्तक्षेप किया। आप अपनी सुरूचि पूर्ण जीवन शैली और सौन्दर्य बोध के लिए भी सुपरिचित रहीं। महिला सशक्तिकरण संबंधी नीतियों का ब्लू प्रिन्ट बनाने और उसे केन्द्र एवं राज्य सरकारों द्वारा स्वीकार कराये जाने की प्रक्रिया में आपका काफी योगदान रहा। देश के अलावा विदेशों में भी आपने मानव-स्वतन्त्रता और महिला-हित के अनुष्ठानों में अपनी बौद्धिक आहुति दी। दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति ने रंगभेद के खिलाफ लड़ाई में अपना समर्थन देने के लिए अल्वा को राष्ट्रीय सम्मान भी प्रदान किया।

आप यूनिसेफ द्वारा बाल अधिकारों की संहिता के मसौदे को तैयार करने के लिए बनाए गए विशेषज्ञ समूह से भी संबद्ध थीं। अल्वा केंद्र सरकार में मंत्री रहने के अलावा राज्यपाल भी रही हैं। आपने महिलाओं और बच्चों की मदद के लिए 'करुणा' नाम स्वयंसेवी संस्था की स्थापना की। आपने अपने राजनीतिक जीवन के अनुभवों पर 'करेज एंड कमिटमेंट: एन ऑटोबॉयोग्राफी' नाम से एक संस्मरणात्मक पुस्तक लिखी, जिसमें देश की एकलौती महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, नरसिम्हा राव और सोनिया गांधी के साथ काम करने के उनके अपने अनुभव तो शामिल हैं ही, कांग्रेस पार्टी की अंदरूनी राजनीति और इन नेताओं के तमाम फैसलों के पीछे के प्रसंग भी शामिल हैं। अपने अनुभवों का बेबाक खुलासा करने के चलते यह पुस्तक काफी चर्चा में रही। आप मर्सी रवि अवॉर्ड से सम्मानित हैं।

Sessions